मंगल ग्रह की 45 रोचक जानकारियाँ – Information About Mars in Hindi

मंगल ग्रह की रोचक और दिलचस्प जानकारी (About Mars in Hindi) पढने के लिए आपका स्वागत है। आज इस आर्टिकल में आपको मंगल यानि मार्स ग्रह से जुडी मजेदार और ज्ञानवर्धक जानकारियां  पढने को मिलेंगी। हमें उम्मीद है आपको ये जानकारियां पसंद आयेंगीं।

मंगल ग्रह के बारे में जानकारी – Mars information in Hindi

1. मंगल ग्रह (मार्स) पर पृथ्वी जैसे ही अलग-अलग कई मौसम हैं, क्योंकि पृथ्वी की तरह ही यह भी अपने अक्ष पर झुका हुआ है। लेकिन यहाँ हर मौसम का समय धरती की तुलना में दो गुना होता है।

2. मंगल का अपनी धुरी पर झुकाव 25.19 ° है।

3. इस ग्रह का व्यास लगभग 6791 किलोमीटर है।

4. पृथ्वी से देखे जाने की तुलना में सूर्य का आकार मंगल से लगभग आधा ही दिखाई देता है।

5. मंगल के दो चंद्रमा (उपग्रह) हैं, उनके नाम डीमोस (Deimos) और फोबोस (Phobos) हैं।

6. मंगल ग्रह के चंद्रमाओं की खोज 1877 में आसफ हॉल नामक एक अमेरिकी खगोलशास्त्री द्वारा की गई थी।

7. फोबोस चन्द्रमा मंगल ग्रह के बहुत करीब है। वैज्ञानिकों का मानना है गुरुत्वाकर्षण की वजह से एक दिन फोबोस चन्द्रमा से टकराकर बिखर जाएगा और इसके मलबे शनि ग्रह के छल्लों की तरह मंगल के चारों ओर एक छल्ले का निर्माण करेंगे।

8. मंगल ग्रह से सूर्य की दूरी लगभग 1410 लाख मील है।

9. अब तक मंगल ग्रह के सभी अभियानों में से केवल 1/3 ही सफल रहे हैं।

10. मंगल ग्रह को ‘लाल ग्रह’ क्यों कहते हैं?
इसे लाल ग्रह के रूप में भी जाना जाता है ऐसा इसलिए क्योंकि इसकी सतह लाल है।

11. मंगल ग्रह के लाल होने का क्या कारण है?
इसकी वजह यह है कि इसकी सतह पर भारी मात्रा में लौह ऑक्साइड पाया जाता है, जिसे हम आमतौर पर लोहे में लगने वाले जंग के रूप में जानते हैं। इसी की वजह से ही मार्स का रंग लाल दिखाई देता है।

12. अगर सूर्य से आने वाली अल्ट्रावायलेट किरणों की हम बात करें तो हमें पृथ्वी पर इन किरणों से जितनी सुरक्षा मिलती है, मार्स पर ऐसी सुरक्षा नहीं मिलती।

यह भी पढ़ें:

13. मार्स में तापमान मौसम के अनुरूप बदलते रहते हैं, यहाँ पूरे वर्ष तापमान -140 डिग्री सेल्सियस से 70.7 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है।

14. यहाँ मौसम कभी-कभी खतरनाक भी हो जाते हैं, यहाँ धूल और हवा के भयंकर आंधी तूफ़ान और छोटे-छोटे बवंडर भी आ सकते हैं।

15. ये तूफ़ान कितने प्रभावशाली हो सकते हैं इसका अंदाज़ा आप इस बात से लगा सकते हैं की सन 2001 में, धूल के एक विशाल तूफान ने कई दिनों के लिए पूरे ग्रह को  ही ढँक लिया था।

16. जब ग्रह सूर्य के ज्यादा नजदीक आता है तब ऐसे तूफ़ान और बढ़ जाते हैं।

17. क्या मंगल पर गुरुत्वाकर्षण है? 
हाँ, लेकिन कम द्रव्यमान (mass) की वजह से इसकी गुरुत्वाकर्षण शक्ति पृथ्वी की तुलना में बहुत कम है।

18. यदि किसी व्यक्ति का वजन धरती पर 45 किलो है तो मंगल पर उसका वजन केवल 17 किलो होगा।

19. क्या मंगल पर ऑक्सीजन है? 
हाँ, लेकिन बहुत ही कम मात्रा में, मार्स के वातावरण में केवल 0.13%  ही ऑक्सीजन है। यहाँ CO2 (कार्बन डाइऑक्साइड) 95.32%, नाइट्रोजन 2.7%, कार्बन मोनोऑक्साइड 0.08% मौजूद हैं।

Some more Information About Mars in Hindi

20. यदि आप बिना स्पेस सूट के मार्स पर खड़े होंगे तो तुरंत आपकी मृत्यु हो जायेगी।

21. मार्स धरती के मुकाबले सूर्य से दूरी 1.5 गुना (50% अधिक) है।

22. सूर्य से दूर होने के कारण यहाँ का तापमान पृथ्वी की तुलना में बहुत ही कम होता है।

23. मंगल पर गुरुत्वाकर्षण पृथ्वी की तुलना में लगभग एक तिहाई है, जिसका अर्थ है कि आप यहाँ धरती की तुलना में तीन गुना ऊँची छलांग लगा सकते हैं।

24. मंगल पर एक साल का समय पृथ्वी के 687 दिन के बराबर होता है।

25. Mariner 9 उपग्रह को 30 मई 1971 को लांच किया गया था जो की 13 नवंबर सन 1971 को मंगल पर पहुंचा और आधिकारिक तौर पर मंगल की कक्षा में जाने वाला पहला कृत्रिम उपग्रह बन गया।

26. जब Mariner 9 मंगल की कक्षा पर पहुँचा तब वहां धुल की भयंकर आंधी आई हुई थी, वैज्ञानिको के अनुसार ऐसा तूफ़ान पहली बार देखा गया था।

27. इस तूफ़ान से उड़े धूल को शांत होने में कई महीने लग गये थे जिसकी वजह से मेरिनर 9 को देर से तस्वीर खीचने के लिए धरती से री-प्रोग्राम करना पड़ा था।

28. मेरिनर 9 मंगल ग्रह की सतह का 100% मानचित्र तैयार करने में सक्षम था और उसने मंगल के चंद्रमाओं फोबोस और डीमोस की पहली नज़दीकी तस्वीरें लीं थीं।

29. 349 दिनों तक मंगल की कक्षा में रहकर इसने मंगल की 7,329 तस्वीरें लीं।

30. इन तस्वीरों में मंगल पर पानी के स्त्रोत, गड्ढे, विशालकाय ज्वालामुखी, कोहरा, पानी और हवा की वजह से बने जंग के निशान आदि देखे जा सकते हैं।

31. मंगल पर पूरे सौर मंडल का अब तक का सबसे बड़ा ज्वालामुखी देखा गया है जिसे ओलम्पस मोंस (Olympus Mons) नाम दिया गया है।

32. ओलम्पस मोंस का आकार 27 किलोमीटर ऊँचा और 600 किलोमीटर चौड़ा है।

33. Viking 1 और 2 सन 1976 में मंगल की सतह पर सफलतापूर्वक लैंड करने वाला पहला मंगल मिशन है।

34. क्या आपको पता है? मार्च महीने का नाम मार्स से लिया गया है।

35. मंगल ग्रह से पृथ्वी और चंद्रमा नग्न आँखों से देखे जा सकते हैं जो की किसी तारे की तरह दिखाई देते हैं।

36. मंगल ग्रह से आसमान का रंग कैसा दिखाई देता है?
यहाँ आसमान का रंग सूरज उगने और ढलने के समय नीला और दिन में पीला-नारंगी दिखाई देता है। यानि यहाँ आसमान का रंग धरती से जैसा दिखता है ठीक उसके विपरीत होता है।

Mars_sky_at_noon-Mangal-grah-ki-photo
मंगल ग्रह की तस्वीर (दोपहर)

 

Mars_sky_at_noon-Mangal-grah-ki-photo
मंगल ग्रह की तस्वीर (सूरज ढलने के समय)

Mars Planet Information in Hindi

37. क्या मंगल में पानी है?
हाँ, लेकिन ज्यादातर पानी बर्फ के रूप में जमा हुआ है और कुछ मात्रा में यह भाप के रूप में भी वहां के वातावरण में मौजूद है।

38. मार्स पर कोई भी चुम्बकीय क्षेत्र (magnetic field) नही है। हालांकि माना जाता है की आज से लगभग 4 अरब साल पहले यहाँ भी पृथ्वी की तरह चुम्बकीय क्षेत्र पाए जाते थे।

39. पृथ्वी और मंगल के बीच की दूरी बदलती रहती है क्योंकि इसकी कक्षा (orbit) गोल नही बल्कि अंडाकार है।

40. बृहस्पति ग्रह (Jupiter planet) मार्स की कक्षा में बदलाव कर सकता है।

41. क्या आपको पता है? गैलीलियो गैलीली ने 1609 में एक साधारण दूरबीन से  मंग ग्रह का अवलोकन किया था।

42. 2030 के अंत तक नासा द्वारा मंगल पर एक स्वतंत्र कॉलोनी बनाने की योजना है।

43. बुध, बृहस्पति, मंगल, शनि और शुक्र ग्रह को भी यहाँ से नंगी आंखों से देखा जा सकता है।

44. हाल ही में NASA JPL के मार्स ऑर्बिटर द्वारा मंगल की सतह पर कृमि जैसी एलियंस को देखा गया है। यह अंतरिक्ष यान पिछले 11 वर्षों से मंगल की परिक्रमा कर रहा है।

45. क्या आप जानते हैं कि वैज्ञानिक ने मंगल पर पौधों को उगाने की कोशिश की है? हां, और वे टमाटर, मटर और राई उगाने के अपने प्रयास में सफल भी रहे हैं। अब लगता है वह दिन दूर नही जब इंसान मंगल पर अपनी जिंदगी बिताएगा।

तो ये थीं Mars planet की कुछ रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियाँ, मंगल ग्रह के बारे में यह जानकारी (Information About Mars in Hindi) आपको कैसी लगी हमें जरूर बताएं।

नोट: सभी तस्वीरें विकिपीडिया से ली गयी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: